सुने अपने दिल और दिमाग दोनों की – Praveen Mishra

ये मेरा पहला मोटिवेशन आर्टिकल है आज कल युथ के लिए जो  सही रास्ते पर जाना तो चाहता पर सही डिसिजन नहीं ले पाता।  ये शायद एक मुश्किल काम है  कुछ किया जाना चहिये इसके लिए. प्रवीण मिश्र मोटिवेशन में आज आप को ये बताऊंगा की क्या करे जब परेशान हो और दिल और दिमाग  से आप डिसीजन नहीं ले प् रहे हो।
1-6-oct
१ – सबसे पहले जब भी ऐसा लगे की कुछ भी आप नहीं कर पा रहे हो, न ही अपने लिए और न ही अपनी फॅमिली के लिए तो में आप को बता दू की आप का ये सोचना ही सबसे बड़ी बात है की आप ऐसा सोचते  हो इससे ये पता चलता है की आप कुछ अच्छा सोचते हो अपनों के बारे में।  अब आप को बता दूँ पता है मोटिवेशन कहा से स्टार्ट होता है. और कौन मोटिवेशन देता है. जो खुद इस तरहा की प्रोब्लेम्स को फेस करके आगे आया हो और उस दर्द को समझता हो जो उसने अपने पुराने एक्सपीरियंस में लिए ,बो ही मोटिवेशन लेक्चर दे सकता है और मोटिवेट कर सकता है बरना इस दुनिया में हर कोई मोटिवेटर बन जाए.
praveen mishra motivation
अब आप को में बताता हु हर इंसान की लाइफ में ये पल जरूर आता है जब हर कोई  ये सोचता है की अब मुझे कुछ करना है और बहुत सारे पैसे कमाने है और अपनी फॅमिली के बारे में सोचना सुरु करता है।  आज में आप को इस लाइफ के बारे में बहुत सारी बातें क्लियर करता हूँ।
आप को में बता दू की अगर आप अपनी लाइफ में कुछ करना चाहते हो तो तो बस लगे रहो और कभी पीछे मत रहो।  जब तक आप जो करना चाहते हो उस काम को करना स्टार्ट नहीं करोगे तब तक आप को ये कैसे पता चलेगा कितनी गहराई है उस काम में जो आप करना चाहते हो।  किसी भी काम को करने से पहले एक प्रॉमिस खुद से करो जो काम करने जा रहे हो उसका जो भी रिजल्ट होंगे उससे आप निरास नहीं होंगे।  और में एक बात बताता हु आप लोगो को जब भी कोई काम स्टार्ट आप करोगे और आप उस काम को करने लगते हो तो इस नहीं जो आप ने उस काम को करने का प्लान बनाया हो टाइम के हिसाब से प्लानिंग चेंज भी होती है काम करने की।  किसी काम को ऊपर पहुचने के लिए टाइम लगता है तो आप को बहुत ही पेसेंस  के साथ काम करना है।  और अपने काम को आने वाले टाइम के हिसाब से सेट करके चलना होता है मतलब टाइम के ट्रेंड के हिसाब से।  तभी आप अपने वर्क को अच्छे से ऊपर ले जा पाओगे।
1
२ – जब आप का दिमाग और दिल दोनों आप को सही आंसर न दे प् रहे हो तब आप को अपने दिल और दिमाग को रेस्ट करा देना चाहियन और कुछ देर कुछ नहीं सोचना है किसी भी बारे में क्योंकि ये दोनों भी रेस्ट चाहते है।  और में आप एक संकेत देता हु आप सही जा रहे हो या नहीं कैसे आप को पता चल सकता है।  जब भी आप किसी काम को पूरा करने में लगे हो तो उस काम की बजह से आप को रात में नींद नहीं आएगी आप समझ जाना लाइन पर हो. क्योंकि अगर आप को नींद आसानी से आ रही है तो इसका मतलब है आप को टेंशन नहीं है और टेंशन नहीं है तो काम कैसा।  आप को इस दुनिया में बहुत सारे लोग मिल जायेगे जो बोलेगे आप को बोलेंगे की टेंशन मत लिया कर ज्यादा सोचा मत करो।  आप को क्या लगता है ये जो लोग है जो ये बोलते है बो सही बोलते है।  मेरे हिसाब से तो ये सब  बिलकुल गलत बोलते हैं।  जो सोचते नहीं है बो कुछ करते नहीं है और जो करते है उनको खुद ही टेंशन हो जाती है आज के टाइम टेंशन कोई टेंशन खुद से लेना चाहता है क्या, टेंशन तो अपनेआप  ही हो जाती है। सच तो ये है लाइफ का नाम ही टेंशन है। जीवन में सुख और दुःख दोनों साथ में चलते है।
टेंशन का मतलब ये नहीं है आप दुखी रहो और कहना पीना बंद कर दो ये सब नहीं करना है।  टाइम से सारे काम करने है।  टाइम की बात आ गयी तो में आप लोगो को बता दू टाइम मैनेजमेंट बहुत जड़ जरुरी है उसको मैनेज करके चलना है चाहे कोई भी काम करो. और रुकना नहीं जब तक मंजिल न मिल जाए.
 
और एक खास मैसेज आप सभी को मेरा आप लोग को हमेशा अपने माँ और पिता को याद रखना है क्योंकि तभी आप कुछ कर सकते हो।  ये सारी बातें भी याद रखनी है आप लोगो को.

Kuldeep Sinha

कुलदीप सिन्हा एक हिंदी ब्लॉगर हैं ये अपनी नॉलेज सभी के साथ शेयर करतें हैं और फुंकूल इंडिया पर भी ये इनफार्मेशन डालतें हैं। इनका मोटिव लोगो को नयी नयी जानकारी से अवगत करना हैं ताकि लोगों की जानकारी बड़े और लोग जागरूक बने।